विदेश

अब लैटिन अमेरिका में भी नजर आया संदिग्ध चीनी जासूसी गुब्बारा

पेंटागन

संदिग्ध जासूसी गुब्बारे को लेकर अमेरिका और चीन के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। ताजा खबर यह है कि यूएस के बाद अब लैटिन अमेरिका में भी ऐसा ही संदिग्ध जासूसी गुब्बारा देखा गया है। पेंटागन ने यह बड़ा दावा किया है।

इससे पहले शुक्रवार रात अमेरिका में चीन का जासूसी गुब्बारा उड़ता हुआ दिखा गया। पेंटागन के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल पैट्रिक राइडर ने बताया, यह गुब्बारा दो दिनों से उड़ रहा है। अमेरिका ने इसे अपनी संप्रभुता और अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन बताया है।

अमेरिका और चीन के बीच तल्खी तेज हो गई है। चीनी गुब्बारा दिखने का प्रकरण इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि हाल ही में दक्षिण चीन सागर में चीन की ताकत को चुनौती देने के लिए अमेरिका फिलीपींस में अपनी सैन्य टुकड़ियां भेज रहा है। फिलीपींस में अमेरिका के 9 सैन्य अड्डे बन चुके हैं। जिस पर चीन ने हाल ही में नाराजगी जताई थी।

पेंटागन का यह बयान एक दिन बाद आया है जब उसने अमेरिकी एयर स्पेस में चीनी जासूस गुब्बारा दिखने की बात कही थी। पेंटागन के प्रेस सचिव ब्रिगेडियर जनरल पैट्रिक राइडर ने सीएनएन को दिए एक बयान में कहा, "हम एक और गुब्बारे के लैटिन अमेरिका से गुजरने की रिपोर्ट देख रहे हैं। अब हम आकलन करते हैं कि यह एक और चीनी निगरानी गुब्बारा है।" हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया कि लैटिन अमेरिका में गुब्बारा कहां था? एक अमेरिकी अधिकारी ने सीएनएन को बताया कि यह वर्तमान में संयुक्त राज्य अमेरिका की ओर जाता नहीं दिख रहा है।

जासूसी गुब्बारे को नष्ट करने से घबरा रहा अमेरिका
एक रक्षा अधिकारी के अनुसार, अमेरिकी उत्तरी कमान नासा के साथ समन्वय कर रही है ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि यदि संयुक्त राज्य अमेरिका के ऊपर घूम रहे गुब्बारे को मार गिराया जाए तो मलबे से जमीन पर कितना नुकसान होगा? अमेरिका को डर है कि गुब्बारा का साइज काफी बड़ा है और अगर इसे नष्ट किया जाता है तो इसका मलबा जमीन पर काफी नुकसान पहुंचा सकता है। हालांकि अमेरिका ने यह भी स्पष्ट किया कि यह गुब्बारा आसमान में 60 हजार फीट की ऊंचाई पर उड़ रहा है, इसलिए इससे अभी कोई खतरा नहीं है। लेकिन, फिर भी अमेरिका चीन की इस हरकत पर तिलमिलाया हुआ है।

चीन की इस हरकत पर अमेरिका ने नाराजगी जाहिर करते हुए विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन का चीन दौरा रद्द कर दिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने इस घटना को "हमारी संप्रभुता का स्पष्ट उल्लंघन" कहा, लेकिन कहा कि इस मुद्दे को हल करने के लिए संचार की लाइनें खुली रहेंगी। उधर, चीन ने इस प्रकरण पर खेद जरूर जताया लेकिन, सफाई में कहा कि यह जासूसी गुब्बारा नहीं नागरिक पोत है, जिसका इस्तेमाल मौसम संबंधी रिसर्च में किया जाता है। यह गलती से अमेरिकी स्पेस में चला गया है। अमेरिका ने चीन के इस दावे का खंडन किया और इस मामले में जांच शुरू कर दी है।

अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि वे अभी भी संदिग्ध चीनी जासूसी गुब्बारे पर नज़र रख रहे हैं क्योंकि यह संयुक्त राज्य भर में घूम रहा है। पेंटागन ने कहा कि यह वर्तमान में कोई खतरा पैदा नहीं करता है और इसके अगले कुछ दिनों तक अमेरिका में बने रहने की उम्मीद है।

मोंटाना में स्पाई बैलून दिखने की वजह

अमेरिका का मोंटाना दरअसल कम आबादी वाला क्षेत्र हैं. यहां अमेरिकी एयरफोर्स का स्पेशल बेस भी है, जहां से इंटरकॉन्टिनेंटल मिसाइल ऑपरेट की जाती है. दरअसल अमेरिका में इस तरह के तीन न्यूक्लियर मिसाइल क्षेत्र ही हैं, जिनमें से एक मोंटाना है. अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक चीन का यह जासूसी उपकरण इन संवेदनशील जगहों की जानकारी जुटाने में जुटा है.

बता दें कि हाल के सालों में अमेरिका में कई बार स्पाई बैलून देखे गए हैं. लेकिन इस बार यह संदिग्ध चीनी स्पाई बैलून काफी समय से अमेरिकी वायुक्षेत्र में नजर आ रहा है, जिससे चिंता बढ़ गई है.

अमेरिका के आरोपों से बौखलाया चीन

अमेरिका जासूसी के इस मामले को जोर-शोर से उठा रहा है. उसने बीजिंग और वॉशिंगटन में चीनी अधिकारियों के सामने इस मुद्दे को रखा है. इस पर चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता माओ निंग ने कहा है कि हम फिलहाल तथ्यों को इकट्ठा करने और उसकी पुष्टि करने में जुटे हैं. चीन का अन्य देशों की संप्रभुता और उनके एयरस्पेस का उल्लंघन करने का कोई इरादा नहीं है. हम उम्मीद करते हैं कि दोनों पक्ष शांति और सावधानी से इस मुद्दे को संभालेंगे.  

इसके बाद चीन के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर बताया कि यह बैलून दरअसल एक नागरिक एयरशिप है, जिससे किसी को कोई नुकसान नहीं होगा. इस बैलून का काम मौसम संबंधी रिसर्च से जुड़ा हुआ है. तेज हवाओं की वजह से यह अपने निश्चित मार्ग से भटककर दूर चला गया.

वांग यी ने की एंटनी ब्लिंकन से बात

इस बीच चीन के विदेश मामलों के आयोग के निदेशक वांग यी ने अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन से फोन पर बात की है. यी ने कहा कि चीन एक जिम्मेदार देश है, जो दूसरे देश की संप्रभुता और अखंडता का सम्मान करता है. हम किसी आधारहीन अटकलें और प्रचार को स्वीकार नहीं करते हैं. बीजिंग की ओर से कहा गया है कि अमेरिकी मीडिया और राजनेताओं ने 'चीन को बदनाम करने के बहाने' गुब्बारों वाली घटना का इस्तेमाल किया.

अमेरिका के बाद कनाडा में दिखा गुब्बारा  

अमेरिका में चीन का स्पाई बैलून दिखने के बाद कनाडा में भी जासूसी गुब्बारा देखा गया. कनाडा के रक्षा मंत्रालय ने दावा किया कि उन्होंने एक जासूसी गुब्बारा अपनी सीमा में आसमान में काफी ऊंचाई पर देखा. यह संभावित दूसरी स्पाई बैलून घटना है. कनाडाई अधिकारियों ने कहा कि वे अमेरिका के साथ मिलकर इस घटना की जांच कर रहे हैं.

KhabarBhoomi Desk-1

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button