विदेश

रूस ने निभाया भारत से ‘याराना’, सुरक्षा परिषद में फिर स्थायी सदस्यता के लिए दिया समर्थन

रूस

रूस ने एक बार फिर अपने दोस्त भारत के लिए 'याराना' निभाया है। रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में स्थायी सदस्यता के लिए भारत का समर्थन करते हुए कहा कि नई दिल्ली ने वैश्विक और क्षेत्रीय मुद्दों पर अपने रुख के साथ सुरक्षा परिषद में मूल्यों को बरकरार रखा है। मुझे लगता है कि भारत वर्तमान में आर्थिक विकास के मामले में अग्रणी देशों में से एक है, और उनके नेता भी। उनके पास विभिन्न प्रकार की समस्याओं को सुलझाने में विशाल राजनयिक अनुभव है। रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने 7 दिसंबर को मास्को में प्रिमाकोव रीडिंग इंटरनेशनल फोरम में मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए ये टिप्पणियां कीं। उन्होने कहा कि भारत संयुक्त राष्ट्र में सक्रिय भूमिका निभाता है और साथ ही शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के भीतर दक्षिण एशिया में एकीकरण संरचनाओं की एक श्रृंखला भी निभाता है। उन्होने कहा, "भारत एससीओ के भीतर दक्षिण एशिया में एकीकरण संरचनाओं की एक श्रृंखला का हिस्सा है और यह संयुक्त राष्ट्र में सक्रिय भूमिका निभाता है। भारत एक ऐसा देश है जो न केवल बनने की आकांक्षा रखता है बल्कि एक बहुध्रुवीय दुनिया के गठन का सार है। 

ब्राजील और भारत के पक्ष में पहले भी बोल चुका है रूस
इससे पहले लावरोव ने इस साल सितंबर में 77वें संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए कहा था कि अगर अफ्रीका, एशिया और लैटिन अमेरिका के देशों को शामिल किया जाता है तो सुरक्षा परिषद अधिक लोकतांत्रिक होगी। उन्होंने अपने संबोधन में कहा था, "भारत और ब्राजील, विशेष रूप से प्रमुख अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रों में से एक हैं और उन्हें परिषद में स्थायी सदस्यता के लिए गिना जाना चाहिए।" रूसी विदेश मंत्री ने कहा कि भारत और ब्राजील जापान और जर्मनी के साथ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में शामिल होने के लिए अपने आवेदनों को बढ़ावा दे रहे हैं, जो बहुध्रुवीयता का संकेत है। लावरोव ने कहा, "हम देखते हैं कि वैश्विक और क्षेत्रीय मुद्दों पर अपने रुख को जानने के बाद भारत और ब्राजील यूएनएससी में क्या अतिरिक्त मूल्य ला सकते हैं।" 

यूके, ब्रिटेन समेत कई देशों का मिला साथ
गौर हो कि 15 देशों की परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में से अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और रूस ने संयुक्त राष्ट्र निकाय में भारत के लिए स्थायी सीट का समर्थन किया है। इससे पहले, संयुक्त राष्ट्र में यूके के राजदूत बारबरा वुडवर्ड ने कहा, "हम भारत, जर्मनी, जापान और ब्राजील के लिए नई स्थायी सीटों के निर्माण के साथ-साथ परिषद में स्थायी अफ्रीकी प्रतिनिधित्व का समर्थन करते हैं।" संयुक्त राष्ट्र महासभा की पूर्ण बैठक को 'सुरक्षा परिषद की सदस्यता और सुरक्षा परिषद की सदस्यता में वृद्धि और वृद्धि के प्रश्न' पर संबोधित करते हुए, संयुक्त राष्ट्र में फ्रांस के उप स्थायी प्रतिनिधि ने कहा कि "फ्रांस की स्थिति स्थिर है और सर्वविदित है। हम चाहते हैं कि परिषद आज की दुनिया का और अधिक प्रतिनिधित्व करे, एक तरह से जो इसके अधिकार और प्रभावशीलता है को और मजबूत करे।"

दिसंबर में पूरा होगा गैर-स्थायी सदस्य का कार्यकाल
सुरक्षा परिषद के गैर-स्थायी सदस्य के रूप में भारत का मौजूदा दो साल का कार्यकाल दिसंबर में समाप्त होगा। भारत वर्तमान में 15 देशों की परिषद की अध्यक्षता कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के निर्वाचित सदस्य के रूप में अपने दो साल के कार्यकाल में यह दूसरी बार है जब भारत ने परिषद की अध्यक्षता ग्रहण की है। भारत ने इससे पहले अगस्त 2021 में यूएनएससी की अध्यक्षता संभाली थी। 
 

KhabarBhoomi Desk-1

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button