मध्यप्रदेश

अब गांव में पेड़ काटने-परिवहन की ऑनलाइन परमिशन देंगी पंचायतें और कलेक्टर

भोपाल

प्रदेश में अब ग्रामीण इलाकों में पेड़ काटने की अनुमति लेने के साथ यह भी बताना होगा कि काटा गया पेड़ किसे बेचा जा रहा है और खरीददार किस मार्ग से लेकर किस वाहन से काटे गए पेड़ को ले जाएगा। राजस्व विभाग द्वारा बनाए गए नए नियमों के अनुसार निजी भूमि पर मौजूद पेड़ काटने की अनुमति के लिए ग्राम पंचायत, पटवारी की रिपोर्ट के आधार पर ग्राम पंचायत को और दखलरहित भूमि का पेड़ काटने के लिए कलेक्टर को ऑनलाइन आवेदन करना होगा।

राजस्व विभाग द्वारा लागू किए गए नए नियमों में प्रावधान किया गया है कि अब ग्राम पंचायत स्तरीय समिति की सिफारिश पर तहसीलदार के बजाय ग्राम पंचायत, पटवारी की रिपोर्ट पर पेड़ काटने की व्यवस्था लागू होगी। ऐसे में अगर कोई व्यक्ति उसकी भूमि पर मौजूद पेड़ काटना या गिराना चाहता है तो उसे ग्राम पंचायत को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। अगर यह पेड़ दखलरहित भूमि पर खड़ा है जिसे काटा जाना या गिराना है तो उसके लिए कलेक्टर को आनलाइन आवेदन करना होगा। ग्राम पंचायत और कलेक्टर को किए जाने वाले आवेदन के बाद कलेक्टर या तहसीलदार द्वारा अभिवहन पास जारी करने के लिए वनोपज नियम 2000 के अधीन सक्षम अधिकारी को अनुमति इलेक्ट्रानिक तरीके से भेजी जाएगी। पेड़ काटने या गिराने के  मामले में ग्राम पंचायत द्वारा लिए गए फैसले के विरुद्ध अपील सुनने के अधिकार एसडीओ रेवेन्यू को दिए गए हैं। इसके बाद इसकी दूसरी अपील नहीं की जा सकेगी। विभाग द्वारा लागू किए गए नियमों के परिप्रेक्ष्य में कई नियमों का लोप करने का निर्णय भी लिया गया है। इसमें यह भी कहा गया है कि ग्राम पंचायत यह तय करेगी कि काटे गए पेड़ की इमारती लकड़ी लोक हित में है या नहीं है और इसे मिट्टी का कटाव रोकने के लिए बचाना जरूरी है या नहीं है।

Related Articles

यह जानकारी देना होगी
मध्य प्रदेश भू राजस्व संहिता की धारा 240 की उपधारा (1) के अधीन नियम 73 में शामिल ऐसे पेड़ों को काटने की अनुमति देने और धारा 31 की उपधारा (2) के अधीन राष्ट्रीयकृत इमारती लकड़ी के पेड़ को काटकर गिराने की अनुमति देने के लिए जो आवेदन किया जाएगा उसका फार्मेट भी राजस्व विभाग ने तय किया है। इसमें कहा गया है कि आवेदक  और उसके माता-पिता, पति के नाम के साथ उसका आधार कार्ड, समग्र आईडी, निवास का पता, मोबाइल नम्बर, ईमेल बताना होगा। साथ ही जिस स्थान से जो पेड़ काटा या गिराया जाना है उस स्थान पर मौजूद भूमि की पूरी जानकारी, पेड़ों की प्रजाति की जानकारी भी देनी होगी।

KhabarBhoomi Desk-1

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button