विदेश

Coronavirus in China: एक शहर से लाखों केस, नए रूप के फैलने की आशंका; चीन में कोविड के हाल

 चीन

चीन में कोरोना से हाहाकार मचा है। यहां हर शहर में कोरोना के नए मामलों की संख्या तेजी से बढ़ी है। सबसे ज्यादा विकट स्थिति झेजियांग प्रांत में देखने को मिली है, यहां रोजाना संक्रमण के 10 लाख नए केस सामने आ रहे हैं। सरकार ने मामले दोगुने होने की आशंका जताई है। इधर, स्वास्थ्य विभाग ने रविवार को ही घोषणा कर दी है कि दैनिक मामलों की रिपोर्ट जारी नहीं की जाएगी।

आंकड़ों को छिपा रहा चीन
चीन कोरोना के नए केसों और मौतों के आंकड़ों को छिपा रहा है। वह विश्व स्वास्थ्य संगठन को दैनिक डेटा नहीं भेज रहा है। माना जा रहा है कि चीन जानबूझकर आंकड़े छिपा रहा है, जिससे देश की छवि खराब न हो।

खून की कमी
चीन के कई क्षेत्रों में सख्त सुरक्षा दिशानिर्देशों के तहत लोगों से रक्तदान करने का आह्वान किया गया है, क्योंकि इन इलाकों में खून की कमी हो गई है। ग्लोबल टाइम्स ने बताया कि कोरोना और ठंडे मौसम से यह स्थिति उत्पन्न हो गई है।

रिपोर्ट जारी करने से इनकार
चीनी में कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने रविवार को घोषणा की कि वह अब देश में कोरोना की स्थिति पर दैनिक रिपोर्ट जारी नहीं करेगा। आयोग ने एक बयान में कहा, ह्लआज से महामारी की स्थिति पर दैनिक जानकारी प्रकाशित नहीं की जाएगी। आयोग ने कहा कि यह कार्य उसके रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) द्वारा किया जाएगा। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता माओ निंग ने शुक्रवार को कहा कि देश में कोविड-19 की रोकथाम और नियंत्रण को लेकर स्थिति नियंत्रण में है। 

बुधवार को, WHO के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घ्रेब्रेयसस ने चीन में कोविड -19 के गंभीर मामलों की बढ़ती संख्या पर चिंता व्यक्त की और बीजिंग से जोखिम वाले समूहों के टीकाकरण पर अपने प्रयासों पर ध्यान केंद्रित करने का आग्रह किया। घेब्रेयसस ने कहा कि स्थिति का व्यापक जोखिम मूल्यांकन करने के लिए, डब्ल्यूएचओ को बीमारी की गंभीरता और चीन में कई अस्पतालों में भर्ती होने के बारे में अधिक विस्तार से जानकारी की आवश्यकता है। चीन द्वारा इस महीने की शुरुआत में शून्य कोविड नीति में एकदम ढील दिए जाने के बाद देश में संक्रमण के मामलों में जबर्दस्त वृद्धि हुई है। दो चीनी शहरों में स्वास्थ्य अधिकारी हर दिन लाखों मामलों की सूचना दे रहे थे। शहर के स्वास्थ्य आयोग के प्रमुख बो ताओ के अनुसार, पूर्वी प्रांत शेडोंग के छिंगदाओ शहर में हर दिन लगभग 4,90,000-5,30,000 लोग संक्रमित हो रहे हैं।

बो ने शुक्रवार को कहा कि यह संख्या निगरानी के आंकड़ों पर आधारित है और शनिवार और रविवार को इसके 10 फीसदी बढ़ने की उम्मीद है। अखबार के अनुसार, दक्षिणी प्रांत ग्वांगडोंग के डोंगगुआन में शहर के स्वास्थ्य आयोग ने शुक्रवार को कहा कि हर दिन 2,50,000 से 300,000 लोग संक्रमित हो रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, चीन में 1 करोड़ 1 लाख 67 हजार 676 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, 31 हजार 585 मरीजों की मौत हो चुकी है।

कोरोना के म्यूटेट होने की आशंका
चीन में कोरोना के बढ़ने के बीच दुनिया में नए म्यूटेट वायरस के फैलने की आशंका जताई जा रही है। जानकारों को लगता है कि यह अभी फैले कोविड-19 के ओमिक्रॉन जैसा हो सकता है। वैज्ञानिक कहते हैं कि यह कोरोना वायरस के कई प्रकारों का मिश्रण हो सकता है या फिर पूरी तरह से अलग एक नया प्रकार हो सकता है। जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के संक्रामक रोग मामलों के विशेषज्ञ डॉ. स्टुअर्ट कैंपबेल रे ने कहा, 'चीन में एक बड़ी आबादी रहती है और वहां प्रतिरक्षा क्षमता सीमित है। यह कुछ इस तरह की स्थिति लगती है जिसमें हम कोविड-19 वायरस के नये प्रकार का विस्फोट देख सकते हैं।' हर नया संक्रमण कोरोना वायरस को उत्परिवर्तित होने का अवसर प्रदान करता है और यह वायरस चीन में तेजी से फैल रहा है। 140 करोड़ की आबादी वाले इस देश ने 'जीरो कोविड' की नीति को काफी हद तक त्याग दिया है।  हालांकि, दर्ज टीकाकरण दर समग्र रूप से काफी अधिक है, लेकिन बूस्टर खुराक लगाने की दर कम है , खासकर बुजुर्गों में। 

चीन का घरेलू टीका गंभीर संक्रमण के खिलाफ पश्चिमी देशों के एम-आरएनए आधारित टीके के मुकाबले कम असरदार साबित हुआ है। चीन में बहुत से लोगों को टीका एक साल पहले लगाया गया था जिसका अर्थ है कि उनमें प्रतिरक्षा क्षमता कम हो चुकी है। इन सबका क्या परिणाम होगा? इसका सीधा सा जवाब है कि वायरस को म्यूटेट होने का आधार मिल जाएगा।  रे ने कहा, 'जब हमने संक्रमण की बड़ी लहर देखी, तब इसके बाद अक्सर वायरस का नया प्रकार उत्पन्न हुआ।' ओहायो राज्य विश्वविद्यालय में वायरस का अध्ययन करने वाले डॉ. शान-लु लियू ने कहा कि बहुत से मौजूदा ओमिक्रॉन प्रकार चीन में चिह्नित किए गये हैं जिनमें बीएफ-7 शामिल है, जो प्रतिरक्षा से बचने में माहिर है। ऐसा माना जाता है कि चीन में कोविड-19 मामलों में वर्तमान उछाल की वजह वायरस का बीएफ-7 प्रकार है।  विशेषज्ञों के मुताबिक आंशिक प्रतिरक्षा वाली आबादी (जैसे की चीन) ने खास तौर पर वायरस पर रूपांतरित होने का दबाव डाला है।
 

KhabarBhoomi Desk-1

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button