देश

वर्ल्ड मिल्क डे: गाय-भैंस ही नहीं बकरी का दूध भी है जबरदस्त फायदेमंद

नई दिल्ली

दुनियाभर में वर्ल्ड मिल्क डे 1 जून को मनाया जा रहा है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य यहीं था कि लोग दूध के पोषण तत्वों को जाने और उसका इस्तेमाल करें। दुनिया के लगभग हर कोने में किसी ना किसी पालतू जानवर के दूध का उपयोग किया जाता है। रेगिस्तान में ऊंटनी तो पहाड़ों पर याक के दूध को लोग पीने के काम में लाते हैं। लेकिन सबसे ज्यादा आम दूध गाय और भैंस का ही होता है। जिसमे भरपूर मात्रा में जरूरी पोषक तत्व होते हैं। लेकिन गाय-भैंस की तरह ही बकरी के दूध में भी कई जरूरी न्यूट्रिशन होते हैं। जिसकी वजह से इसे कुछ बीमारियों में पीने की सलाह दी जाती है।  

प्रोटीन है ज्यादा
अमेरिका के गवर्नमेंट फूड डाटा सेंट्रल के अनुसार बकरी के दूध में प्रोटीन और कैल्शियम की मात्रा ज्यादा होती है। यूनाइटेड स्टेट्स में बकरी का दूध स्पेशल आइटम है। दुनियाभर की करीब 65 प्रतिशत पॉपुलेशन बकरी का दूध पीती है। बकरी का दूध पीने से कुछ बीमारियों में फायदा पहुंचता है। वहीं ये दूध काफी सारी हेल्थ प्रॉब्लम को भी दूर करता है।

डाइजेशन में आसान
बकरी का दूध पीने का सबसे बड़ा कारण है इजी डाइजेशन। गाय के दूध की तुलना में इसमे लैक्टोज काफी कम मात्रा में होता है। जिसकी वजह से ये पचने में आसान होता है। वहीं बाकी न्यूट्रिशन भरपूर होते हैं। इसलिए उम्र बढ़ने के साथ अमेरिका में बहुत सारे लोग बकरी के दूध को पीना पसंद करते हैं।

गट हेल्थ के लिए फायदेमंद
बकरी के दूध में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। जिसकी वजह से ये आंतों में होने वाली सूजन को कंट्रोल करता है। जिन लोगों को डाइजेशन की समस्या होती है। उन्हें बकरी का दूध पीने से किसी भी तरह की गैस, एसिडिटी और कब्ज की शिकायत नहीं होती है।

विटामिन ए और डी की भरपूर मात्रा
बकरी के दूध में विटामिन डी भरपूर होता है। जो बोन हेल्थ के लिए जरूरी है। साथ ही मेंटल हेल्थ और इम्यून सिस्टम को सही करने के लिए भी विटामिन डी जरूरी होता है। वहीं विटामिन ए की मात्रा भी अच्छी खासी होती है।

इन बीमारियों में पीना है फायदेमंद
बकरी का दूध अक्सर इन बीमारियों में पीने की सलाह दी जाती है।

हड्डियों और जोड़ों का दर्द

  बार-बार इंफेक्शन होना

हाथ-पैर में सुन्नपन

डेंगू का बुखार

कमजोरी-दुबलापन

 

KhabarBhoomi Desk-1

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button