Top Newsविदेश

Taliban Government: तालिबान सरकार में उच्‍च पदों पर नहीं रह सकती महिलाएं, हैरात में हुआ विरोध प्रदर्शन

काबुल (रायटर्स)। अफगानिस्‍तान की नई सरकार में महिलाओं के शामिल होने की बात कहने वाला तालिबान फिलहाल इससे मुकरता दिखाई दे रहा है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि उसने अब तक इस बारे में कोई फैसला नहीं लिया है। यही वजह है कि अफगान महिलाओं ने तालिबान के इस दोगुले रुख के खिलाफ विरोध प्रदर्शन तक किया है। तालिबान का कहना है कि वो इस पर विचार कर रहे हैं लेकिन ये साफ है कि वो उन्‍हें कोई भी बड़ी जिम्‍मेदारी नहीं देंगे। आपको बता दें कि तालिबान ने काबुल पर कब्‍जे के बाद कहा था कि वो महिलाओं की समाज में बड़ी भूमिका चाहते हैं।

एक निजी चैनल से हुई वार्ता के दौरान तालिबान के वरिष्‍ठ नेताओं में शामिल शेर मोहम्‍मद अब्‍बास स्‍तानिकजई ने साफ कहा है कि महिलाएं काम जरूर कर सकती हैं लेकिन वो सरकार में उच्‍च पदों पर नहीं रह सकती हैं। गौरतलब है कि तालिबान शासन में महिलाओं की स्थिति को लेकर पहने से ही विश्‍व के कई देश चिंता जता चुके हैं। अब स्‍तानिकजई का बयान इस बारे में काफी कुछ स्‍पष्‍ट कर देता है। पिछले माह महिलाओं को लेकर एक बयान तालिबान के प्रवक्‍ता जबीहुल्‍ला मुजाहिद ने भी दिया था। इसमें कहा गया था कि महिलाएं केवल इस्‍लामिक नियमों के तहत ही काम कर सकती हैं। मुजाहिद का कहना था कि वो इस दायरे में रहते हुए अपना काम जारी रख सकती हैं।

एक और तालिबानी नेता इनामुल्‍ला समंगनी का इस बारे में कहना था कि जिनमें लीडरशीप की का जज्‍बा है वो अफगानिस्‍तान की नई सरकार में अपनी अहम भूमिका निभा सकती हैं। उनका भी कहना था कि शरिया कानून के मुताबिक महिलाएं काम कर सकती हैं। समंगनी तालिबानी के कल्‍चरल कमीशन का प्रमुख है। तालिबान के महिलाओं के प्रति रवैये के खिलाफ हैरात प्रांत में महिलाओं में सड़कों पर उतरकर मांग की कि उन्‍हें भी पुरुषों के बराबर हक मिलना चाहिए। इन महिलाओं का कहना था कि तालिबान उनसे घबराए नहीं वो उनके साथ हैं। इन महिलाओं के हाथों में बैनर, पोस्‍टर और तख्तियां थीं। इन महिलाओं का ये भी कहना था कि बिना महिलाओं की भागीदारी के कोई भी सरकार बनी नहीं रह सकती हैं।

टोलो न्‍यूज के मुताबिक अफगानिस्‍तान की पूर्व सरकार में अधिकारी रही नूरिया नजहत ने कहा कि तालिबान इस बारे में खुलकर कोई फैसला नहीं ले रहा है कि महिलाएं काम करेंगी या नहीं। नजहत मीडिया हाउस की प्रमुख रह चुकी हैं। उन्‍होंने बताया कि तालिबान के अंदर इसको लेकर आमराय नहीं बन रही है कि महिलाएं समाज, सरकार में किस तरह की भूमिका में हों। यही हाल शिक्षा केक्षेत्र में हैं। अफगानिस्‍तान के पूर्व राजदूत शु्क्रिया बरकजई का कहना है कि तालिबान को महिलआों को भी सरकार में शामिल करना चाहिए।

Show More

khabarbhoomi

खबरभूमि एक प्रादेशिक न्यूज़ पोर्टल हैं, जहां आपको मिलती हैं राजनैतिक, मनोरंजन, खेल -जगत, व्यापार , अंर्राष्ट्रीय, छत्तीसगढ़ , मध्याप्रदेश एवं अन्य राज्यो की विश्वशनीय एवं सबसे प्रथम खबर ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button