Top Newsखेल

स्ट्राइकर मेंफिस डीपे ने बार्सिलोना को हार से बचाया, एथलेटिक बिलबाओ के खिलाफ मैच 1-1 से ड्रा हुआ

बार्सिलोना, एपी। नीदरलैंड्स के स्ट्राइकर मेंफिस डीपे ने मैनेजर रोनाल्ड कोमैन की अपेक्षाओं पर खरा उतरते हुए बार्सिलोना की तरफ से पहला गोल दागा जिससे उनकी टीम सुपरस्टार स्ट्राइकर लियोन मेसी के जाने के बाद स्पेनिश फुटबाल लीग ला लीगा में पहली हार से बच गई।

बार्सिलोना ने लचर खेल दिखाया, लेकिन डीपे के गोल से वह एथलेटिक बिलबाओ को 1-1 से ड्रा पर रोकने में सफल रहा। कोरोना महामारी के बाद पहली बार सैन मेमेस स्टेडियम में कुछ दर्शक भी पहुंचे थे जिन्होंने डीपे के 75वें मिनट में किए गए गोल से कुछ राहत की सांस ली। बिलबाओ को इनिगो मार्टिनेज ने 50वें मिनट में बढ़त दिलाई थी। मेसी के पेरिस सेंट जर्मेन से जुड़ने के बाद बार्सिलोना ने अपने पहले मैच में रीयल सोसिएदाद को 4-2 से हराया था, लेकिन दूसरे मैच में उसे अर्जेंटीना के सुपरस्टार की कमी खली। ला लीगा के अन्य मैचों में वेलेंसिया ने कार्लोस सोलर के 88वें मिनट में पेनाल्टी पर किए गए गोल से ग्रेनाडा को 1-1 से ड्रा पर रोका।

इंटर मिलान की बड़ी जीत

मिलान, एपी। इंटर मिलान के नए खिलाड़ी हकाना कालाहानोग्लु ने एक गोल करने के अलावा अन्य गोल करने में मदद की जिससे उनकी टीम ने जेनोवा पर 4-0 की बड़ी जीत से इटालियन फुटबाल लीग सीरी-ए में अपने अभियान की शानदार शुरुआत की। कालाहानोग्लु एसी मिलान से इंटर मिलान से जुड़े हैं। उन्होंने मिलान स्क्रीनियर की छठे मिनट में गोल करने में मदद की और इसके बाद 14वें मिनट में गोल दागकर बढ़त दोगुनी की। आर्तुरो विडाल ने 74वें मिनट में तीसरा जबकि एडिन जेको ने अंतिम क्षणों में चौथा गोल किया।

सीरी-ए के अन्य मैचों में लाजियो ने इंपोली को 3-1 से हराया। इंपोली दूसरी डिवीजन से शीर्ष डिवीजन में पहुंचा है। पिछले तीन सत्र से तीसरे नंबर पर रहने वाले अटलांटा ने दोनों हाफ में गोल करके टोरिनो को 2-1 से पराजित किया। एक अन्य मैच में सासुओलो ने 10 खिलाड़ियों के साथ खेल रहे हेलास वेरोना को 3-2 से हराया। वेरोना के कप्तान मिगुएल वेलोसा को पहले हाफ से ठीक पहले बाहर भेज दिया गया था।

पूर्व राष्ट्रीय कोच एसएस हकीम का निधन

नई दिल्ली, प्रेट्र। पूर्व भारतीय फुटबालर और 1960 के रोम ओलिंपिक में भाग लेने वाले सैयद शाहिद हकीम का गुलबर्गा के एक अस्पताल में रविवार को निधन हो गया। पारिवारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। हकीम साब नाम से लोकप्रिय सैयद शाहिद हकीम 82 वर्ष के थे। उन्हें हाल में दौरा पड़ा था जिसके बाद उन्हें गुलबर्गा के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

हकीम पांच दशक तक भारतीय फुटबाल से जुड़े रहे। वह बाद में कोच बने और उन्हें द्रोणाचार्य पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। वह एशियाई खेल 1982 में पी के बनर्जी के साथ सहायक कोच थे और बाद में मर्डेका कप के दौरान राष्ट्रीय टीम के मुख्य कोच बने। घरेलू स्तर पर कोच के रूप में उनका सबसे अच्छा प्रदर्शन महिंद्रा एंड महिंद्रा (अब महिंद्रा युनाइटेड) की तरफ से रहा जबकि उनके रहते हुए टीम ने 1988 में ईस्ट बंगाल की मजबूत टीम को हराकर डूरंड कप जीता था। वह सालगावकर के भी कोच रहे।

वह फीफा के अंतरराष्ट्रीय रेफरी भी रहे और उन्हें ध्यान चंद पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। वायु सेना के पूर्व स्क्वाड्रन लीडर हकीम भारतीय खेल प्राधिकरण के क्षेत्रीय निदेशक भी रहे। वह अंडर-17 फीफा विश्व कप से पहले परियोजना निदेशक भी रहे। हकीम सेंट्रल मिडफील्डर के रूप में खेला करते थे, लेकिन सच्चाई यह है कि उन्होंने 1960 रोम ओलिंपिक में खेलने का मौका नहीं मिला था। संयोग से तब कोच उनके पिता सैयद अब्दुल रहीम थे। इसके बाद वह एशियाई खेल 1962 में स्वर्ण पदक जीतने वाली टीम में जगह बनाने से चूक गए थे।

भारतीय महिला टीम राष्ट्रीय शिविर का फायदा उठाने की कोशिश करेगी

नई दिल्ली, प्रेट्र। भारतीय महिला फुटबाल टीम ने कोविड-19 महामारी के बीच जमशेदपुर में राष्ट्रीय शिविर लगाने की अनुमति देने के लिए झारखंड सरकार का आभार व्यक्त किया है, जहां टीम की खिलाड़ी एएफसी एशियाई कप की तैयारी करेंगी। महिला फुटबाल टीम एएफसी कप की तैयारी के लिए इस शिविर के लिए जमशेदपुर में एकत्रित हुई हैं जिसका आयोजन अगले साल जनवरी में भारत में ही होगा।

महामारी के दौरान मुश्किल परिस्थितियों में राष्ट्रीय शिविर के आयोजन पर खिलाडि़यों ने खुशी व्यक्त की। टीम की कप्तान आशालता देवी ने कहा, ‘दुनिया में महामारी की मौजूदा स्थिति को ध्यान में रखते हुए किसी भी खेल आयोजन के लिए इस तरह के शिविर लगाना आसान नहीं है। हम इस शिविर के आयोजन के लिए झारखंड सरकार और अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआइएफएफ) का आभार व्यक्त करते हैं।’ भारतीय महिला टीम ने इस साल की शुरुआत में तुर्की और उज्बेकिस्तान का दौरा किया था। इन दौरों पर टीम को उज्बेकिस्तान, बेलारूस, यूक्रेन और रूस के खिलाफ खेलने का मौका मिला। टीम नए कोच थामस डेनेर्बी की देख रेख में शिविर में हिस्सा लेगी। डेनेर्बी को राष्ट्रीय टीमों के साथ 30 साल काम करने का अनुभव है।

khabarbhoomi

खबरभूमि एक प्रादेशिक न्यूज़ पोर्टल हैं, जहां आपको मिलती हैं राजनैतिक, मनोरंजन, खेल -जगत, व्यापार , अंर्राष्ट्रीय, छत्तीसगढ़ , मध्याप्रदेश एवं अन्य राज्यो की विश्वशनीय एवं सबसे प्रथम खबर ।

Show More

khabarbhoomi

खबरभूमि एक प्रादेशिक न्यूज़ पोर्टल हैं, जहां आपको मिलती हैं राजनैतिक, मनोरंजन, खेल -जगत, व्यापार , अंर्राष्ट्रीय, छत्तीसगढ़ , मध्याप्रदेश एवं अन्य राज्यो की विश्वशनीय एवं सबसे प्रथम खबर ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button