खेल

टी20 विश्व कप मैच में अर्धशतक लगाने और तीन विकेट लेने वाले चौथे खिलाड़ी बने रोस्टन चेज

सेंट जॉन्स
वेस्टइंडीज के ऑलराउंडर रोस्टन चेस एक आईसीसी टी 20 विश्व कप मैच में अर्धशतक बनाने और तीन या अधिक विकेट लेने वाले कुल मिलाकर चौथे और अपनी टीम के दूसरे खिलाड़ी बन गए।

चेस ने यह उपलब्धि एंटीगुआ में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ आईसीसी टी20 विश्व कप सुपर आठ टी20 विश्व कप मुकाबले के दौरान हासिल की। मैच में, चेस ने 42 गेंदों में तीन चौकों और दो छक्कों की मदद से 52 रन बनाए और उनका स्ट्राइक रेट 123.81 रहा। इसके बाद उन्होंने तीन ओवर में 12 रन देकर तीन विकेट लिए, जिसमें ट्रिस्टन स्टब्स, डेविड मिलर और केशव महाराज के विकेट शामिल थे। हालांकि, उनका यह शानदार प्रदर्शन बेकार गया और वेस्टइंडीज मैच 7 विकेट से हार गया और प्रतियोगिता से बाहर हो गया।

वेस्टइंडीज के दिग्गज ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो ने इससे पहले यह कारनामा करने वाले पहले खिलाड़ी थे, जिन्होंने टी20 विश्व कप 2009 में लॉर्ड्स में भारत के खिलाफ नाबाद 66 रन बनाए और 38 रन देकर 4 विकेट लिये। ब्रावो के स्पेल की बदौलत भारत ने 7 विकेट पर 153 रन बनाए। इसके बाद उनके अर्धशतक की बदौलत वेस्टइंडीज ने आठ गेंदें शेष रहते लक्ष्य हासिल कर लिया।

शेन वॉटसन ने 2012 टी20 विश्व कप के दौरान कोलंबो में दो बार ऐसा किया था। आयरलैंड के खिलाफ उन्होंने 51 रन बनाए और 26 रन देकर 3 विकेट लिए, जबकि भारत के खिलाफ उन्होंने 42 गेंदों में दो चौकों और सात छक्कों की मदद से 72* रन बनाए और 14.5 ओवर में 141 रन का पीछा कर रही भारतीय टीम को 140 रन पर समेट दिया।

इसके अलावा चल रहे टूर्नामेंट में, मार्कस स्टोइनिस ने ओमान पर जीत में ऑस्ट्रेलिया के लिए एक ऑलराउंड प्रदर्शन किया, उन्होंने 67* रन बनाए और मैच में 19 रन देकर 3 विकेट लिए। उनकी बल्लेबाजी की बदौलत पहले ऑस्ट्रेलिया ने 164 रनों का कुल स्कोर बनाया और फिर ओमान को 125/9 पर दिया।

वेस्टइंडीज-दक्षिण अफ्रीका मैच की बात करें तो मैच में, दक्षिण अफ्रीका ने टॉस जीता और पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। वेस्टइंडीज ने केवल 5 रन पर दो विकेट खो दिये थे, लेकिन काइल मेयर्स (34 गेंदों में तीन चौकों और दो छक्कों की मदद से 35 रन) और रोस्टन चेस (42 गेंदों में तीन चौकों और दो छक्कों की मदद से 52) के बीच 81 रनों की साझेदारी ने उन्हें मैच में वापस ला दिया। हालांकि, प्रोटियाज के गेंदबाजों ने इस साझेदारी के बाद नियमित अंतराल पर विंडीज को झटके देते रहे और टीम ने 20 ओवर में 8 विकेट पर 135 का स्कोर बनाया।

दक्षिण अफ्रीका की तरफ से तबरेज शम्सी ने 3, मार्को यान्सन, एडन मार्करम, केशव महाराज और कागिसो रबाडा ने 1-1 विकेट लिया। 136 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए दक्षिण अफ्रीका ने दो विकेट जल्दी गंवा दिए। बारिश के कारण खेल बाधित होने के कारण प्रोटियाज को 17 ओवर में 123 रनों का नया लक्ष्य दिया गया।

एक समय मैच बराबरी पर था, ट्रिस्टन स्टब्स (27 गेंदों में 29 रन, चार चौके) और हेनरिक क्लासेन (10 गेंदों में 22 रन, तीन चौके और एक छक्का) की महत्वपूर्ण पारियों के बावजूद, दक्षिण अफ्रीका का 15.2 ओवर में स्कोर सात विकेट पर 110 रन था। यहां से लगा कि अफ्रीकी टीम एक बार फिर अपने उपर लगी चोकर्स के ठप्पे को सही साबित कर देगी, लेकिन मार्को यान्सन और कागिसो रबाडा ने टीम को 5 गेंद रहते जीत दिला दी।

यान्सन ने 17वें ओवर की पहली गेंद पर छक्का लगाकर अपनी टीम को जीत दिलाई। यान्सन 14 गेंदों पर 1 चौके और 1 छक्के की बदौलत 21 रन बनाकर नाबाद रहे। वहीं. रबाडा 3 गेंदों पर 5 रन बनाकर अविजित लौटे। वेस्टइंडीज की तरफ से रोस्टन चेज ने 3 और आंद्रे रसेल और अल्जारी जोसेफ ने 2-2 विकेट लिया।

इस जीत के साथ, दक्षिण अफ्रीका ने तीन मैचों में तीन जीत के साथ अपने सुपर आठ अभियान को अपराजित रहते हुए समाप्त किया। इंग्लैंड तीन मैचों में दो जीत और एक हार के साथ सेमीफाइनल में पहुंचने वाली दूसरी टीम है। प्रतियोगिता की मेजबान वेस्टइंडीज की टीम सुपर आठ में सिर्फ एक जीत और दो हार के साथ बाहर हो गई है।

 

KhabarBhoomi Desk-1

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button