मध्यप्रदेश

मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में 17 हजार 144 शिकायतों का निराकरण

1807 शिकायत निवारण शिविर में हुआ उपभोक्ता शिकायतों का समाधान

भोपाल

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के कार्यक्षेत्र के भोपाल, नर्मदापुरम्, ग्वालियर एवं चंबल संभाग के 16 जिलों में मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में 17 हजार से अधिक बिजली शिकायतों का निराकरण किया गया। दस से 25 मई तक उपभोक्ता शिकायतों के त्वरित समाधान के लिये मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में 1807 शिकायत निवारण शिविर में 18 हजार 187 शिकायत प्राप्त हुईं। इनमें से 17 हजार 144 शिकायत का निराकरण कर दिया गया एवं शेष शिकायतों का निराकरण जल्द ही कर दिया जाएगा। शिकायत निवारण शिविरों में मुख्यतः विलंब से बिलों का वितरण, बिल प्राप्त न होना, अधिक बिल राशि, मीटर-वाचन देरी से होना, गलत रीडिंग होना, ऑनलाइन बिल जनरेट न होना, ऑनलाइन की गई पेमेंट न दिखना, विद्युत-प्रदाय, नवीन कनेक्शन, भार वृद्धि तथा अन्य शिकायतें प्राप्त हुई हैं।

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के भोपाल रीजन में 748 शिविरों में कुल 7 हजार 112 शिकायतें प्राप्त हुईं, जिनमें से 6 हजार 552 शिकायतों का मौके पर निराकरण कर दिया गया। ग्वालियर रीजन में 1059 शिविरों में कुल 11 हजार 075 शिकायतें प्राप्त हुईं, जिनमें से 10 हजार 592 शिकायतों को मौके पर ही निराकृत कर दिया गया तथा शेष शिकायतों का निराकरण जल्दी ही कर लिया जाएगा।

गौरतलब है कि इन शिकायत निवारण शिविरों में अधिक बिल राशि की 5 हजार 445, बिल प्राप्त न होने की 571, गलत रीडिंग की 922, नवीन कनेक्शन की 3 हजार 616, भार वृद्धि की 378, विद्युत प्रदाय की 2 हजार 811, देरी से रीडिंग की 195, रीडिंग नहीं लेने की 839, ऑनलाइन बिल जनरेट न होने की 197, ऑनलाइन किया गया पेमेंट नहीं दिखाई देने की 246 और अन्य 666 शिकायतों का शिविर लगा कर निराकरण किया गया।

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने बताया कि बिजली उपभोक्ताओं को निर्बाध एवं गुणवत्तापूर्ण विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने के साथ ही बेहतर उपभोक्ता सेवाएँ प्रदान करना कंपनी की प्राथमिकता है और इसी कड़ी में बेहतर सुशासन और आमजन की समस्याओं के शीघ्र निराकरण के लिए प्रदेश में संचालित मुख्य मंत्री जन-सेवा अभियान द्वितीय चरण में प्राप्त शिकायतों को कंपनी द्वारा समय-सीमा में हल किया गया है।

 

KhabarBhoomi Desk-1

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button