विदेश

पाकिस्‍तान ने नहीं चुकाया पैसा, मलेशिया ने जब्‍त किया सरकारी प्‍लेन

इस्‍लामाबाद
डिफॉल्‍ट होने की कगार पर पहुंचे पाकिस्‍तान को उसके इस्‍लामिक दोस्‍त मलेशिया से बहुत बड़ा झटका लगा है। मलेशिया ने पाकिस्‍तान की सरकारी एयरलाइन पीआईए के बोइंग 777 प्‍लेन को जब्‍त कर लिया है। पाकिस्‍तानी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक मलेशिया के क्‍वालालंपुर एयरपोर्ट पर लीज विवाद में कई बार कहने के बाद भी पैसा नहीं चुकाने पर पाकिस्‍तान के इस विमान को जब्‍त कर‍ लिया गया है। पाकिस्‍तान मलेशिया के साथ दोस्‍ती के तमाम दावे करता रहता है। इमरान खान तो मलेशिया के साथ मिलकर इस्‍लामिक देशों का गठबंधन भी बनाना चाहते थे।

एआरवाई की रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्‍तानी एयरलाइन ने इस बोइंग 777 विमान को मलेशिया से लीज पर लिया था। इस विमान को दूसरी बार क्‍वालालंपुर एयरपोर्ट पर जब्‍त किया गया है। बताया जा रहा है कि कई बार कहने के बाद भी कंगाल पाकिस्‍तान ने लीज का पैसा मलेशिया को नहीं दिया था। इसके बाद पाकिस्‍तानी एयरलाइन के विमान को मलेशिया ने जब्‍त कर लिया है। पाकिस्‍तान को बोइंग विमान का करीब 40 लाख डॉलर लीज का पैसा देना है।

पाकिस्‍तान की मलेशिया में बेइज्‍जती

मलेशिया की कंपनी ने पाकिस्‍तान के पैसे नहीं देने पर स्‍थानीय कोर्ट से आदेश लिया और एयरपोर्ट पर पीआईए के विमान को जब्‍त कर लिया। ऐसा पहली बार नहीं है जब पाकिस्‍तान की मलेशिया में बेइज्‍जती हुई है। इससे पहले भी साल 2021 में पाकिस्‍तानी विमान को मलेशिया की राजधानी क्‍वालालंपुर में जब्‍त कर लिया गया था। उस समय भी पाकिस्‍तान ने पैसा नहीं चुकाया था। हालांकि पाकिस्‍तान के पैसा चुकाने के कूटनीतिक आश्‍वासन देने के बाद इस प्‍लेन को बाद में मलेशिया ने जाने दिया था।

           

इस सीज किए गए विमान को किसी तरह से वापस लाया जा सका था। विमान पर 173 यात्री और चालक दल के सदस्‍य सवार थे। पाकिस्‍तान इस समय गंभीर रूप से विदेशी मुद्राभंडार की कमी से जूझ रहा है। पाकिस्तान के पास विदेशी मुद्राभंडार 4 अरब डॉलर के आसपास ही बचा हुआ है। पाकिस्‍तान इस समय आईएमएफ से कर्ज मांग रहा है लेकिन उसे अभी तक इसकी कोई संभावना नहीं दिख रही है। पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने अब आईएमएफ के एमडी से गुहार लगाई है।

KhabarBhoomi Desk-1

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button