देश

छेड़छाड़ के 10 मामलों का जिक्र; बृजभूषण सिंह के खिलाफ क्या-क्या आरोप और कौन सी धाराएं

नई दिल्ली
भारतीय कुश्ती महासंघ के प्रमुख और भाजपा सांसद बृजभूषण सिंह के खिलाफ पहलवानों का विरोध उग्र ही होता जा रहा है। उनकी मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। 28 अप्रैल को दिल्ली पुलिस में उनके खिलाफ दायर दो केस में आरोपों की बौछार है। उनके खिलाफ दर्ज एफआईआर में मदद के बदले सेक्सुअल फेवर की मांग, यौन उत्पीड़न की 15 घटनाओं में से 10 में अनुचित तरीके से शरीर को छूना, स्तनों पर हाथ फेरना, नाभियों को छूना जैसे कई गंभीर आरोप लगे हैं।  

दोनों एफआईआर में आईपीसी की धाराएं 354 (महिला की इज्जत पर हमला करने के इरादे से बल प्रयोग), 354ए (यौन उत्पीड़न), 354डी (पीछा करना) और 34 (सामान्य इरादे) लगाई गई हैं। इन धाराओं में एक से तीन साल की जेल की सजा है। पहली प्राथमिकी में छह पहलवानों ने आरोप लगाए हैं। आरोपियों में डब्ल्यूएफआई सचिव विनोद तोमर का भी नाम शामिल है। दूसरी में एक नाबालिग के पिता ने आरोप लगाए हैं। इसे POCSO अधिनियम की धारा 10 के तहत दर्ज किया गया है। इसमें दोष सिद्ध होने पर पांच से सात साल की कैद हो सकती है। एफआईआर में दर्ज घटनाएं कथित तौर पर 2012 से 2022 के बीच है, जो कि भारत और विदेशों में हुईं।

नाबालिग के आरोप
दिल्ली पुलिस की एफआईआर के मुताबिक, नाबालिग का आरोप है कि उसे कसकर पकड़कर तस्वीर लेने का नाटक करते हुए आरोपी (बृजभूषण शरण सिंह) ने उसे अपनी ओर खींचा। उसके कंधे को जोर से दबाया और फिर जानबूझकर उसके स्तनों पर हाथ फेरा। नाबालिग ने आरोपी से कहा कि वह पहले ही उसे बता चुकी है कि उसे किसी भी प्रकार के शारीरिक संबंध बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं है। उसे पीछा करना बंद कर देना चाहिए।

Related Articles

पहलवान 1
एक दिन जब मैं होटल के रोस्टोरेंट में डिनर कर रही थी तब आरोपी (बृजभूषण सिंह) ने मुझे अलग से अपनी खाने की मेज पर बुलाया। उसने मेरी सहमति के बिना मेरे स्तन पर अपना हाथ रखा। उसने मुझे पकड़ लिया। उसके हाथ फिर मेरे पेट के नीचे फिसल गए। हालांकि, वह वहां नहीं रुका और फिर से अपना हाथ ऊपर की ओर मेरे स्तन पर ले गया। उसने मेरे स्तन को टटोला और फिर अपना हाथ मेरे पेट पर सरका दिया। उसने करीब 3-4 बार ऐसा किया।

बृजभूषण सिंह के डब्ल्यूएफआई कार्यालय में उसने मेरी सहमति के बिना मुझे मेरी हथेली, घुटने, जांघों और कंधों को अनुचित तरीके से छूना शुरू कर दिया। मैं कांपने लगी। जब हम बैठे थे तो वह मेरे पैरों को अपने पैरों को छू रहा था। मेरे घुटनों को छुआ। मेरी सांस की जांच करने के बहाने उसने अपने हाथ मेरे स्तन पर रखे। फिर मेरे पेट को नीचे ले गया।

पहलवान 2
जब मैं मैट पर लेटी हुई थी तो बृजभूषण सिंह मेरे पास आया और मेरे कोच की अनुपस्थिति में और मेरी अनुमति के बिना मेरी तरफ झुक गया। उसने मेरी टी-शर्ट खींची और मेरी सांस जांच करने के बहाने उसने अपना हाथ मेरी छाती पर रख दिया। मेरे स्तन छुए और फिर हाथ मेरे पेट के नीचे सरका दिया।

फेडरेशन ऑफिस में उसने मुझे अपने कमरे में बुलाया। मेरे भाई को बाहर रहने के लिए कहा गया। मेरे कमरे में जाते ही उसने दरवाजा बंद कर दिया। मुझे अपनी ओर खींच लिया और मेरे साथ जबरदस्ती शारीरिक संपर्क बनाने की कोशिश की।

पहलवान 3
उसने मुझे फोन पर मेरे माता-पिता से बात बराई। उस समय मेरे पास अपना मोबाइल फोन नहीं था। फिर उसने मुझे अपने बिस्तर पर बुलाया जहां। इसके बाद उसने अचानक मुझे जबरदस्ती गले लगा लिया। उसने मुझे रिश्वत देने की भी कोशिश की।

पहलवान 4
उन्होंने मुझे बुलाया। मेरी सांस की जांच करने के बहाने उसने मेरी टी-शर्ट खींची और अपना हाथ मेरे पेट के नीचे सरका दिया। मेरी नाभि पर हाथ रख दिया।

पहलवान 5
टीम फोटोग्राफ के लिए जब मैं अंतिम पंक्ति में खड़ी थी तो बृजभूषण सिंह मेरे पास आए और मेरे साथ खड़ा हो गए। मुझे अचानक अपने नितंब पर किसी का हाथ महसूस हुआ। मैं उनके कार्यों से दंग रह गई। जब मैंने दूर जाने की कोशिश की तो मुझे जबरन मेरे कंधे से पकड़ लिया गया।

पहलवान 6
मेरे साथ एक तस्वीर क्लिक करने के बहाने उसने मुझे अपने कंधे की तरफ खींच लिया। खुद को बचाने के लिए मैंने दूर जाने की कोशिश की। मैंने बार-बार विरोध किया। उन्हें दूर धकेलने की कोशिश की। इस पर मुझे धमकी दी। उन्होंने मुझसे कहा, "ज्यादा स्मार्ट बन रही है क्या। आगे कोई टूर्नामेंट नहीं खेलना है क्या?"

 

KhabarBhoomi Desk-1

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button