Top Newsविदेश

महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को तोड़ने वाले कट्टरपंथी संगठन टीएलपी के शख्स को पाकिस्तान की अदालत ने दी जमानत

इस्लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान के लाहौर किले में सिख शासक महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को तोड़ने वाले शख्स को पाकिस्तान की एक अदालत ने शुक्रवार को जमानत दे दी है। बता दें कि बीते मंगलवार को कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक (टीएलपी) के सदस्य ने प्रतिमा को तोड़ने की घटना को अंजाम दिया था। ऐसा तीसरी बार हुआ है जब लाहौर किला परिसर में स्थित महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को तोड़ा गया है।

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार, रिजवान के रूप में पहचाने गए आरोपी के वकील ने अदालत को सूचित किया कि पुलिस ने अपनी जांच पूरी कर ली है और उसके कब्जे से एक हथौड़ा बरामद किया है।

पाकिस्तान अपनी जिम्मेदारियां निभाने में असफल

भारत विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने प्रतिमा को तोड़ने की घटना की कड़ी निंदा की थी और कहा था कि पाकिस्तान सरकार अपनी जिम्मेदारियां निभाने में असफल हो रही हैं और देश में अल्पसंख्यक समुदायों में भय का माहौल बना हुआ है। समा टीवी के मुताबिक, महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को तोड़ने वाले व्यक्ति को स्थानिय पुलिस द्वारा मंगलवार को हिरासत में ले लिया गया था। जहां पाकिस्तान की एक अदालत ने शुक्रवार को जमानत दे दी।

घटना की डीएसजीएमसी के प्रमुख ने की निंदा

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) के प्रमुख मनजिंदर सिंह सिरसा ने भी इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि पाकिस्तान के कट्टरपंथियों ने महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को तोड़कर एक बार फिर सिख भावनाओं को आहत किया है।

डीएसजीएमसी के प्रमुख ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो पोस्ट कर कहा कि मैंने इस घटना के बारे में संयुक्त सचिव, विदेश मंत्री (पीएआइ) जेपी सिंह को अवगत कराया है, जिन्होंने मुझे आश्वासन दिया है कि वह मामले को भारत में पाकिस्तान दूतावास के साथ उठाएंगे। साथ ही ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए सख्त कार्रवाई करने के लिए कहेंगे।

तीसरी बार तोड़ी जा चुकी है महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा

पिछले कुछ सालों में प्रतिमा को तोड़ने की घटना तीसरी बार हुई है। 27 जून, 2019 को पूर्व शासक की 180 वीं पुण्यतिथि को चिह्नित करने के लिए, कांस्य में बने नौ फुट ऊंची प्रतिमा को लाहौर किले में अनावरण किया गया था। पहली बार अगस्त 2019 में प्रतिमा को तोड़ा गया था, दूसरी बार दिसंबर 2020 में तोड़ दिया गया था।

khabarbhoomi

खबरभूमि एक प्रादेशिक न्यूज़ पोर्टल हैं, जहां आपको मिलती हैं राजनैतिक, मनोरंजन, खेल -जगत, व्यापार , अंर्राष्ट्रीय, छत्तीसगढ़ , मध्याप्रदेश एवं अन्य राज्यो की विश्वशनीय एवं सबसे प्रथम खबर ।

Show More

khabarbhoomi

खबरभूमि एक प्रादेशिक न्यूज़ पोर्टल हैं, जहां आपको मिलती हैं राजनैतिक, मनोरंजन, खेल -जगत, व्यापार , अंर्राष्ट्रीय, छत्तीसगढ़ , मध्याप्रदेश एवं अन्य राज्यो की विश्वशनीय एवं सबसे प्रथम खबर ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button