Top Newsखेल

इंडियन स्त्री शक्ति’ का खास ओलंपिक वीडियो तैयार कर प्रोफेसर वशिष्ठ ने बढ़ाया खिलाड़ियों का हौसला

कानपुर, आरती तिवारी। ‘चीयर4इंडिया’ के तहत शुरू हुआ ओलिंपिक खेलों में हिस्‍सेदारी कर रहे भारतीय खिलाडि़यों के समर्थन का सिलसिला। देश का नाम रोशन करने टोक्‍यो गए इन सभी भारतीय खिलाडि़यों के लिए केरल के प्रोफेसर एम. सी. वशिष्ठ का अपने स्तर पर किया जा रहा प्रयास है वाकई सराहनीय…

आज हर भारतीय खेलप्रेमी का उत्‍साह चरम पर है। कोरोना महामारी की तमाम आशंकाओं और सुरक्षा व्‍यवस्‍था के साथ आखिरकार आज से टोक्‍यो में ओलिंपिक खेलों के आयोजन शुरू होने को है। कोरोना महामारी के कारण बीते साल सारी तैयारियों पर पानी फिर गया, मगर यह हमारे खिलाडि़यों का अदम्‍य साहस और देश के प्रति समर्पण ही तो है कि जब लोग महामारी का दंश झेलते हुए नाउम्‍मीदी की दुनिया में खोते जा रहे थे, तब ये खिलाड़ी देश के लिए पदक जीतने की तैयारी में जी-तोड मेहनत कर रहे थे।

अब चूंकि वह घड़ी आ चुकी है जब अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर तिरंगे का सम्‍मान होगा और पूरी उम्‍मीद है कि हमारे खिलाड़ी इस आयोजन में देश का नाम रोशन अवश्‍य करेंगे। हालांकि लगभग हर खेल में दर्शकों का उत्‍साहवर्धन खिलाडि़यों के बेहतर प्रदर्शन में योगदान देता है मगर इस बार स्‍वास्‍थ्य सुरक्षा को ध्‍यान में रखते हुए ओलिंपिक सम्‍मेलन में दर्शकों को आने की अनुमति नहीं मिली है। ऐसे में प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘चीयर4इंडिया’ के तहत तमाम सेलेब्रिटी इंटरनेट मीडिया के जरिए इन खिलाडि़यों का समर्थन कर रहे हैं और अपनी शुभकामनाएं दे रहे हैं।

समर्थन का यह जोश हर किसी में है। इसी का प्रमाण हैं केरल के मालाबार क्रिश्चियन कॉलेज, कालीकट के इतिहास के प्रोफेसर एम. सी. वशिष्ठ। टोक्‍यो ओलिंपिक आयोजन की सूचना इनके लिए किसी उत्‍सव से कम नहीं थी। इसी क्रम में इन्‍होंने अब तक की सभी भारतीय महिला ओलिपिंक पदक विजेताओं पर ‘इंडियन स्‍त्री शक्ति’ के नाम से विडियो फिल्‍म तैयार कर इंटरनेट मीडिया पर डाली। जिनमें कर्णम मल्‍लेश्‍वरी से लेकर, साइना नेहवाल, एम.सी. मेरीकॉम, पी.वी. सिंधू और साक्षी मलिक के विजयी पलों को शामिल किया गया है।

इसके अतिरिक्‍त 2008 ओलिंपिक खेलों में गोल्‍ड मेडल लाने वाले हमारे शूटिंग चैंपियन अभिनव बिंद्रा के लिए प्रो. वशिष्‍ठ ने न सिर्फ एक गीत तैयार किया साथ ही अपने विद्यार्थी साई गिरधर के साथ मिलकर उसकी धुन बनाई और संगीतबद्ध भी किया है।

हर हर्फ में दर्ज सफलता की कहानी

यह सिलसिला यहीं नहीं थमता। ओलिंपिक के प्रति अपना समर्थन व समर्पण जाहिर करने के लिए प्रो. वशिष्‍ठ ने स्‍वयं ओलिंपिक विशेषांक समाचार पत्र भी तैयार किया है। यह विशेषांक 1896 से लेकर अब तक के हुए ओलिंपिक खेलों के प्रमुख घटनाक्रमों पर जानकारी देता है।

ओलिंपिक खेलों के 125 साल पूरे होने के अवसर पर इस अखबार को तैयार करने पर प्रो. वशिष्‍ठ कहते हैं, ‘मेरा यह छोटा सा प्रयास खेलों के हर उस भारतीय दिग्गजों के प्रति सम्‍मान और विनम्र धन्‍यवाद व्‍यक्‍त करने का तरीका है, जिन्होंने ओलिंपिक में हमारे तिरंगे को ऊंचा रखा। वे हमारे देश के लिए सम्मान और गौरव लाने वाले महान खि‍लाड़ी हैं, जिन्‍होंने विदेशी जमीन पर हमें अपना सिर ऊंचा करने का मौका दिया है। ऐसे में उनके लिए जितना किया जाए वह कम ही है।’

इसी क्रम में अपने खिलाडि़यों को घर बैठे उत्‍साहवर्धन करने के लिए प्रो. वशिष्‍ठ ने अब तक के सभी ओलिंपिक आयोजन के वर्ष व लोगो सहित बैनर तैयार करवाया है। ताकि हमारे खिलाड़ी किसी भी प्रकार से अकेला न तो महसूस करें और साथ ही देश भर के नागरिक भी ओलिंपिक के प्रति अपना समर्थन दर्ज करें।

Show More

khabarbhoomi

खबरभूमि एक प्रादेशिक न्यूज़ पोर्टल हैं, जहां आपको मिलती हैं राजनैतिक, मनोरंजन, खेल -जगत, व्यापार , अंर्राष्ट्रीय, छत्तीसगढ़ , मध्याप्रदेश एवं अन्य राज्यो की विश्वशनीय एवं सबसे प्रथम खबर ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button