विदेश

पाक सेना की मदद बिलावल भुट्टो बनेंगे देश के अगले प्रधानमंत्री ?

 कराची

पाकिस्तान में राजनीतिक अस्थिरता अपने चरम पर है. पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान और सेना के बीच चल रही लड़ाई के बीच खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) से कई बड़े नेताओं ने किनारा कर लिया है. इमरान खान के डूबते राजनीतिक करियर के बीच पाकिस्तान में यह चर्चा जोरों पर है कि सेना के जनरलों से अपनी करीबी के कारण विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी एक मजबूत प्रधानमंत्री उम्मीदवार के रूप में उभर सकते हैं.

9 मई को इमरान खान की गिरफ्तारी के लिए इस्लामाबाद कोर्ट के बाहर भारी हंगामा देखने को मिला. खान की गिरफ्तारी के बाद देशभर में हिंसक प्रदर्शन हुए और सरकारी इमारतों को नुकसान पहुंचाया गया. इसके बाद पाकिस्तान की सरकार ने पीटीआई समर्थकों पर कड़ी कार्रवाई शुरू की. पाकिस्तानी सेना के दबाव में पीटीआई के दर्जनों बड़े नेताओं शिरीन मजारी, फवाद चौधरी, आमिर महमूद कियानी, अली जैदी, मलिका बोखारी आदि ने पार्टी छोड़ दी है.

Related Articles

कहा जा रहा है कि पीटीआई छोड़ रहे सभी नेता बिलावल भुट्टो की पार्टी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) से जुड़ सकते हैं. विश्लेषकों का कहना है कि जिन नेताओं ने पीटीआई छोड़ी है, अपने निर्वाचन क्षेत्र के वोट बैंक पर उनकी पकड़ है. इन नेताओं की मदद से पीपीपी अपने गढ़ सिंध प्रांत से निकलकर पंजाब में भी अपना प्रभाव बढ़ाना चाहती है. 262 नेशनल एसेंबली सीटों वाला पंजाब पाकिस्तान की राजनीति में बेहद अहम स्थान रखता है.

इसके जरिए सिंध और बलुचिस्तान में पीपीपी और उसके सहयोगी एक ब्लॉक बनाने की कोशिश कर रहे है जिससे अक्टूबर में होने वाले नेशनल एसेंबली के चुनावों में उन्हें फायदा मिले.  

'चुनाव के बाद बिलावल सरकार का नेतृत्व कर सकते हैं'

इस्लामाबाद स्थित राजनीतिक विश्लेषक और सरकारी ब्रॉडकास्टर रेडियो पाकिस्तान के पूर्व महानिदेशक मुर्तजा सोलंगी ने कहा कि पीपीपी अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी गठंबधन सरकार का नेतृत्व कर सकते हैं.
उन्होंने कहा, 'मैं इस बात से इनकार नहीं कर सकता कि अगले चुनावों के बाद कमजोर गठबंधन सरकार का नेतृत्व बिलावल भुट्टो करेंगे.'

साथ ही वो कहते हैं कि इस बात की संभावना कम है क्योंकि इसके लिए पीटीआई से दलबदलुओं को लाने की जरूरत होगी, फिर यह भी देखना होगा कि चुनाव के नतीजे क्या रहे हैं और फिर बिलावल को गठबंधन बनाकर उसे अपने पक्ष में करना होगा.
बिलावल की पार्टी पर सेना का हाथ

बिलावल भुट्टो के प्रधानमंत्री बनने की अटकलें इसलिए भी तेज हैं क्योंकि अप्रैल 2022 में विदेश मंत्री बनने के बाद से ही वो सेना के करीब रहे हैं.

वाशिंगटन स्थित थिंक टैंक विल्सन सेंटर में दक्षिण एशिया संस्थान के निदेशक माइकल कुगेलमैन का कहना है कि बिलावल पहले किसी उच्च सरकारी पद पर नहीं थे और अचानक 2018 में नेशनल असेंबली के लिए चुन लिए गए.

वो कहते हैं, 'बिलावल बिना सेना के आशीर्वाद के विदेश मंत्री जैसै बहुत वरिष्ठ पद तक नहीं पहुंच पाते. यह एक तथ्य है कि वो एक ऐसी पार्टी से आते हैं जिसकी सेना में अच्छी पकड़ है.'

कुगेलमैन का कहना है कि हाल ही में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों द्वारा रिकॉर्ड की गई कॉल रिकॉर्डिंग लीक हुई जिससे कई वरिष्ठ नेताओं को निशाना बनाया गया है. सिर्फ विपक्ष ही नहीं बल्कि प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ का पार्टी के नेताओं पर भी गाज गिरी लेकिन यह बात गौर करने वाली है कि बिलावल भुट्टो की पार्टी से किसी नेता को टारगेट नहीं किया गया.

मुर्तजी सोलंगी कहते हैं कि बिलावल भुट्टो ने विदेश मंत्री बनने के बाद से पाकिस्तान के साथ-साथ विदेशों में भी खुद को साबित किया है. वो कहते हैं, 'इससे बिलावल भुट्टो को राजनीति के दांवपेच जल्दी सीखने में आसानी हुई है और यह उनके लिए बहुत फायदेमंद है.'

पाकिस्तान में चर्चा में रहते हैं बिलावल

34 वर्षीय पाकिस्तान के विदेश मंत्री पिछले एक साल से सुर्खियों में हैं. दिसंबर में उन्होंने पिछली गर्मियों में आए विनाशकारी बाढ़ से प्रभावित लोगों के लिए दुनिया से आर्थिक मदद की मांग की थी.

4-5 मई के बीच भारत में आयोजित शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में बिलावल शामिल हुए थे. यहां आकर उन्होंने कश्मीर में आयोजित जी-20 की मीटिंग को लेकर भारत की आलोचना की थी. उन्होंने भारत को धमकी के स्वर में कहा था कि समय आने पर ऐसा जवाब देंगे कि याद रहेगा.

उनके इस बयान को पाकिस्तान में खूब पसंद किया गया. सोशल मीडिया पर कई पाकिस्तानी यूजर्स ने बिलावल को भविष्य का पीएम कहा.

कश्मीर में जब 22-24 मई के बीच जी-20 टूरिज्म वर्किंग ग्रुप की बैठक चल रही थी तब बिलावल ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में कहा था कि बैठक में सऊदी, तुर्की, चीन जैसे देश नहीं आए और भारत अपने मकसद में नाकामयाब रहा है. उन्होंने कहा था कि वो कश्मीर के लोगों के साथ खड़े हैं. इसके बाद भी बिलावल की खूब तारीफ हुई थी.

लेकिन माइकल कुलेगमन का कहना है कि बिलावल ने विदेशों में पाकिस्तान का अच्छे से प्रतिनिधित्व किया लेकिन जब वो वापस पाकिस्तान आए तब अपने आलोचकों का मुंह बंद कराने में नाकामयाब रहे.

सेना भी चाहती है चुनाव के बाद पीएम बनें बिलावल

बिलावल दो बार की पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के बेटे और 1970 के दशक के प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो के पोते हैं. कुगेलमैन कहते हैं कि उनका पारिवारिक इतिहास ऐसा है कि वो वंशवाद और भ्रष्ट राजनीति के पर्याय बन गए हैं. यही बात बहुत से पाकिस्तानियों के बिलावल को लेकर नाराजगी का कारण है. पाकिस्तान में अभी जो स्थिति है, उसे देखते हुए यह स्वाभाविक है कि भुट्टो को एक साथ प्रशंसा और नाराजगी दोनों झेलनी होगी.

 

KhabarBhoomi Desk-1

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button